Taj Mahal ,Uttar Pradesh के Agra city में यमुना नदी के South तट पर स्थित सफेद संगमरमर का मकबरा (Marble Tomb) है। शाहजहां ने आगरा में यमुना नदी के तट पर ताजमहल को अपनी सबसे प्रिय बेगम “मुमताज़ महल” या “अर्जुमंद बनो बेगम ”   की याद में बनवाया था ।

Taj Mahal
Image source :- Google

ताजमहल 1632 में बनाना शुरू किया गया था और तक़रीबन 1653 में बन कर तैयार हुआ था यानि इसको बनने में लगभग 22 लगे मतलब दो दशकों बाद ये बन कर तैयार हुआ .इसे बनवाने में लगभग 20 ,000 मज़दूरों को बुलाया गया था । इस तरह विश्व  प्रसिद्ध ताजमहल मुग़ल स्थापत्य कला की समस्त खूबियों से परिपूर्ण है इसलिए ये  UNESCO world heritage site में शामिल होने वाला भारत का प्रथम स्मारक है । 1983 में ताजमहल को UNESCO world heritage site में शामिल किया गया है ।

Taj Mahal
Image source :- Google

ताजमहल weather के हिसाब से रंग बदलता है ऐसा बोला जाता है कि जब चांदनी रात होती है तो ताजमहल देखने लायक होती है ये  चमकती है ,शाम को अलग रंग होती है और जब यहाँ पर तूफान आता है या बारिश होती है तब इसका अलग नज़ारा होता है और खुली धुप में तो बहुत हीं ज्यादा white दिखता   है । इसका main building मुग़ल architecture में बना है और इसका garden चारबाग़ style में बनी है । विश्वप्रसिद्ध इस मकबरे में मध्य एशिया ,ईरान और भारत की भवन निर्माण शैलियों का सामंजस्यपूर्ण संयोजन है । उस्ताद अहमद लाहौरी ने इसका design तैयार किया ।

Taj Mahal
Image source :- Google

सफ़ेद संगमरमर से बनी इस इमारत में पित्रादूरा शैली में खूबसूरत काम किया गया है । पित्रादूरा दरअसल एक इतालवी भाषा का शब्द है जिसका मतलब Hard Stone या कठोर पत्थर होता है । इस शैली में पत्थर पर जड़ाऊ का काम किया जाता था ,Mughal architecture में इसका उपयोग बखूबी किया गया है। पित्रादूरा शैली 16 वीं सदी में इटली के रोम में use हुई थी और इसके बाद में Florence के कलाकारों ने इसे शीर्ष पर पहुंचा दिया । ताजमहल दरअसल कई इमारतों से Inspire हो कर  बना हुआ  है , जैसे इसका design और चारबाग़  शैली – हुमायूँ के मकबरे से लिया गया है,इस्लामिक सादगी के मामले में यह अकबर के मकबरे से लिया गया है , कब्र design के मामले में ये मांडू के होशंग शाह के मकबरे से ,संगमरमर और पित्रादूरा शैली का इस्तेमाल  एत्माद-उद-दौला के मकबरे से ,और झील में भवन के प्रतिबिम्ब बनने के मामले में यह सासाराम में स्थित  शेरशाह सूरी के मकबरे से लिया गया है ।

Taj Mahal
Image source :- Google

How To Reach Taj Mahal

दिल्ली से दूरी लगभग 204 किमी है। आप आगरा पहुँचने के बाद बिना किसी परेशानी के ऑटो ,रिक्शा ,बस या अपनी गाड़ी से पहुँच सकते हैं । अगर मुमकिन हो तो ठंड के मौसम में ताजमहल घूमने की   planning   न करें क्योंकि धुंध  के कारण इसकी खूबसूरती खिल के बाहर नहीं आती। ताजमहल घूमने का Best season मार्च से जून का  होता है ,

सुरक्षा कारणों से कुछ ऐसी चीजे हैं जिनके साथ आप ताजमहल के अंदर नहीं जा सकते । Tripod, mobile phone charger, खाने-पीने की वस्तुएं और तंबाकू जैसी चीजें पूरी तरह से यहां Restricted  है।  यहां एक Locker room है जहां आप अपने सामान को सुरक्षित तरीके से जमा कर सकते हैं और वापस लौटने पर यहां से अपने सामान को ले सकते हैं।

Taj Mahal
Image source :- Google

अगर आप Indian हैं तो आपको ताजमहल देखने के लिए 50 रुपये की  Ticket  खरीदनी पड़ेगी। Foreign Tourists    के लिए Ticket   का दाम 1100 रुपये है। आमतौर पर ताजमहल रोजाना सुबह 6 बजे से शाम 7 बजे तक खुला रहता है, लेकिन शुक्रवार को इसे नमाज के लिए बंद रखा जाता है। पूर्णमासी के दिन ताजमहल के गेट्स रात 8:30 बजे से 12:30 बजे तक खुले रहते हैं। चांद की रोशनी में ताजमहल बेहद खूबसूरत लगता है। यहां ध्यान रखने वाली बात यह है कि रमजान के पवित्र महीने में आप रात के वक्त ताजमहल का दीदार नहीं कर सकते।ताजमहल में एंट्री करने के लिए तीन  gates हैं जो east, west  और  south में मौदूद हैं। इन तीनों gates में जिस gate पर लोगों की भीड़ सबसे कम होती है वह है इसका western gate। इस western gate से आप आसानी से ताजमहल के complex। में enter कर सकते हैं ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *